Ramesh Pokhriyal ‘Nishank’

Dr. Ramesh Pokhriyal 'Nishank'

Chief Minister

          2009 से 2011 तक उत्तराखंड के पाँचवे मुख्यमन्त्री रहे। डॉ0 निशंक ने मुख्य्मन्त्रित्व  काल में राजनैतिक कौशल, ज्ञान और ध्वनि समन्वय कौशल की सहायता से उत्तराखंड राज्य में हरिद्वार और उधम सिंह नगर को शामिल करने जैसे जटिल और संवेदनशील मुद्दों को सुलझाया। अंतरराष्ट्रीय फोरम में हिमालयी संस्कृति को लाने के लिए अनगिनत सफल प्रयास किए। राज्य से संचालित करने के लिए लघु उद्योग को प्रोत्साहित करने के लिए केंद्रीय बिक्री कर 4% से 1% कम किया । राज्य के सभी आवश्यक वस्तुओं के लिए 364 डिपो खोले और इस तरह से 61.75 करोड़ से 128 करोड़ रुपये के राजस्व में वृद्धि हुई। कुल कर संग्रहण में 575 करोड़ रुपये से 1100 करोड़ की बढ़ोतरी |

          विज्ञान और प्रौद्योगिकी की सहायता से पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की जीवन शैली के स्तर को बढ़ाने के लिए कई योजनाओं को प्रारंभ किया | गंगा नदी की स्वछता तथा उसे प्रदूषण मुक्त करने के लिए स्पर्श गंगा अभियान की शुरुआत की |

          निशंक के कार्यकाल में उत्तराखंड ने आज तक का सर्वश्रेठ आर्थिक प्रदर्शन किया है जो कि नीति आयोग की रिपोर्ट मे भी उल्लिखित है |